कालेधन के खिलाफ बड़ी सफलता, घटकर आधी रह गई स्विस बैंक खातों में जमा भारतीयों की रकम



भारतीयों के स्विस बैंक खातों में जमा राशि में यह 1987 के बाद की सबसे बड़ी सालाना गिरावट है....

खास बातें

  • 2016 में जमा रकम लगभग आधा यानी करीब 4500 करोड़ रुपये रह गई
  • स्विटजरलैंड के केंद्रीय बैंकिंग प्राधिकरण ने जारी किए आंंकड़े
  • इस तरह से इस धन में सबसे बड़ी सालाना गिरावट दर्ज की गई
ज्यूरिख: कालेधन के खिलाफ मोदी सरकार के प्रयास को बड़ी सफलता मिली है. सरकार के प्रयास की यह नतीजा है कि भारतीयों द्वारा स्विटजरलैंड के बैंकों में जमा कराया गया धन 2016 में लगभग आधा रह गया है. ये राशि अब 67.6 करोड़ स्विस फ्रेंक (करीब 4500 करोड़ रुपये) रह गई है. इस तरह इन गोपनीय खातों में जमा धन अपने रिकॉर्ड निचले स्तर पर आ गया है. एक साल पहले यह राशि 1,410 अरब स्विस फ्रेंक  (करीब 9,500 करोड़ रुपये) थी. गौरतलब यह भी है कि स्विस बैंकों में भारतीयों की जमा राशि में लगातार तीसरे साल गिरावट आई है. यह जानकारी स्विटजरलैंड के केंद्रीय बैंकिंग प्राधिकरण स्विस नेशनल बैंक के गुरुवार को जारी ताजा आंकड़ों में दी गई है. 

भारतीयों द्वारा स्विस बैंकों में सीधे तौर पर जमा धन घटकर जारी साल में 66.48 करोड़ स्विस फ्रैंक रहा. वहीं अमानती तौर पर रखा गया धन 2016 के आखिर में 1.1 करोड़ स्विस फ्रैंक रहा. हालांकि इन स्विस बैंकों में सभी विदेशी ग्राहकों द्वारा रखा गया कुल धन मामूली रूप से बढ़कर 1420 अरब स्विस फ्रेंक यानी लगभग 96 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच गया.

2016 में 45 प्रतिशत की गिरावट आई
स्विस बैंकों में भारतीयों के कुल धन में 2016 में 45 प्रतिशत की गिरावट आई और यह 67.575 करोड़ स्विस फ्रेंक सीएचएफ रहा. इस तरह से इस धन में सबसे बड़ी सालाना गिरावट दर्ज की गई. उक्त राशि में 37.7 करोड़ स्विस फ्रेंक ग्राहक जमाओं के रूप में, लगभग 9.8 करोड़ रुपये अमानती राशि के रूप में तथा 19 करोड़ स्विस फ्रेंक अन्य देनदारियों के रूप में है. एसएनबी के आंकड़ों के अनुसार पिछले साल सभी श्रेणियों में राशि में गिरावट दर्ज की गई. 
Sourse news her 

No comments:

Get Update By Email